Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

हिंदी कहानिया | हिंदी कहानी कुसुम एक अनसुलझी पहेली -भाग - 31 | Hindi kahaniya new | Romantic Story

 हिंदी कहानिया | हिंदी कहानी कुसुम एक अनसुलझी पहेली -भाग - 31 | Hindi kahaniya 


यह भी देखे : बजन कम करने के आसान और घरेलु उपाय  >>>

"आज ही एक अनजान लड़की की रिक्वेस्ट आयी और इतनी सारी बाते भी करने लगी है , पिक्स देख कर तो लड़की जेनुअन लग रही है , फेक id तो नहीं लग रही है , साथ ही नंबर भी दे दिया है, " शीतल का pic  देख कर रियान सोच रहा था |

तभी रियान का फ़ोन बजने लगा था , उसने देखा तो पता चला नीलम की कॉल आ रही थी , उसने थोड़ा रुक कर कॉल रिसीव किया ||

रोमांटिक और लव शायरी पढ़ने के लिए क्लिक करे >>>

"क्या हीरो , कल मिल क्या लिए तो तुमने कॉल भी नहीं किया " नीलम ने रियान को ताना मारते हुए कहा 

"नहीं यार ऐसा नहीं है , मैं आज लेट सोया था और लेट से ही उठा हूँ इसलिए नहीं कर पाया " रियान ने अपनी सफाई में कहा 

"अच्छा तो ऐसा क्या था जो रात को लेट से सोये थे , मुझसे तो बात भी नहीं की थी तुमने " नीलम ने एक और प्रश्न किया 

"यार कॉलेज के फ्रैंड्स ही थे सब मिल कर लूडो खेल रहे थे " रियान ने झूठ बोल के नीलम को चुप कराया 

"अच्छा , तो तुम्हे कल मेरी याद नहीं आयी ," नीलम ने नखराते हुए पूछा 

"याद तो तुम्हारी बहुत ही आती है लेकिन , क्या कर सकता हूँ तुम रोज रोज तो मेरे पास आ नहीं सकती न " रियान ने कहा 

"क्यूबे हीरो क्यों नहीं आ सकती , रोज तो तुम फील करके जो सब करते हो तब कैसे आ जाती हूँ मैं तुम्हारे पास " नीलम ने मजाकिये लहजे में रियान से कहा |

"अब रोज रोज बो सब करना ठीक नहीं रहता " रियान ने शरमाते हुए कहा 

"अच्छा आज शाम को क्या कर रहे हो " नीलम ने पूछा 

"कुछ नहीं घर पर ही हूँ " रियान ने कहा 

"आज शाम को मैं अकेली हूँ , सुन्दर पार्क आयूँगी " नीलम ने रियान को सिग्नल दिया 

"अच्छा तो मैं भी आजाऊंगा, लेकिन क्या फायदा तुम कुछ करने तो देती नहीं हो " रियान ने कहा 

"क्या हर बार करना ही जरुरी है , कभी बैठ के बाते भी कर लिया करो " नीलम ने कहा 

"हम्म लेकिन तुम्हे देख कर मुझसे रुका नहीं जाता " रियान ने बताया 

"अच्छा ठीक है , आजाना" नीलम ने मुस्कराते हुए कहा 


"ठीक है अभी मुझे कुछ काम है ,शाम को कॉल करना " कहते हुए नीलम ने कॉल डिस्कनेक्ट कर दी |

नीलम की बात सुन कर रियान के अंदर बाचें खिलने लगी थी , उसे आज शाम रंगीन होते दिख रही थी , अब उसी सोच में डूब कर  शाम का इंतजार करने लगा था |जानिए ब्लैक फंगस होने के लक्षण >>>

मजेदार कहानिया पढने के लिए यहां जाये >>>     

रियान नहा कर बाथरूम से निकला ही था की उसका फ़ोन फिर से बजने लगा था , उसने देखा तो स्क्रीन पर इस बार नीलम नहीं बल्कि शीतल का नाम था , रियान के चेहरे की ख़ुशी देख कर साफ झलक रहा था की आज वो सातबे आसमान पर है |

"हेलो " बड़ी ही प्यारी सी अबाज रियान के कान में आयी 

"हेलो , कैसी हो " रियान ने पूछा 

"मैं ठीक हूँ , अपना बताओ , क्या  कर रहे हो " शीतल ने उधर से पूछा 

"कुछ ख़ास नहीं , बोर हो रहा था " रियान ने कहा 

"अरे क्यों क्यों , ऐसा क्यों , कोई दोस्त या कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या तुम्हारी " शीतल ने बेबाकी से पूछा 

"नहीं , हमारी ऐसी किस्मत कहाँ है, गर्लफ्रेंड नहीं बस फ्रेंड है  " रियान ने मायूस हो कर जवाव दिया |


रियान का जवाव सुन कर शीतल को ये तो समझ आ ही चुका था की बंदा कितना पहुंचा हुआ है , वो भी उससे बिलकुल भी कम न थी , इसलिए उसने भी अपनी चाल का अगला पैतरा फेक ही दिया ||

"हम्म , बोर तो हम भी हो ही रहे थे " शीतल ने भी मायूस हो कर कहा


"क्यों तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है क्या " रियान ने भी वही सवाल किया 

"हम भी आपकी तरह से बदकिस्मत ही है " उधर से आवाज आयी 


अब दोनों ओर थोड़ी देर के लिए शांति सी छा गयी , फिर चुप्पी तोड़ते हुए रियान ने कहा , अगर तुम बोर हो रही तो क्या मैं तुम्हे कपनी दे सकता हूँ ,

शीतल ने कहा "हाँ क्यों नहीं , जरूर "

"तो बताओ कहा आना है " रियान ने पूछा 

शीतल ने उसे अपने होटल के पास के ही एक रेस्टोरेंट में आने को कहा |

जानिए ब्लैक फंगस होने के लक्षण >>>

मजेदार कहानिया पढने के लिए यहां जाये >>>     

करीब २० मिंट बाद रिया उस रेस्टोरेंट में शीतल से मिलने आ चुका था, सामने बाली शीट पर खुले बालो के साथ बेहद ही सेक्सी ड्रेस में बैठी शीतल बहुत ही आकर्षक लग रही थी , पहले तो रियान उसे पहचानने से इंकार कर रहा था , सोच रहा था की फोटो में तो ये लड़की इतनी सुन्दर लग नहीं रही थी , लेकिन अब इतनी सुन्दर कैसे हो गयी |

गेट के पास खड़े रियान को देखकर शीतल ने अपना हाथ हिला कर उसे अपने पास आने को इशारा किया , अब रियान जल्दी से चल कर उसके पास आने लगा था |


ओह्ह हाय , अपना हाथ आगे करते हुए रियान ने शीतल के कोमल हाथ का स्पर्श किया |

शीतल ने भी जानबूझ कर अपने हाथ को रियान के हाथ में ज्यादा देर तक रखा , ताकि रियान को कुछ सोचने पर मजबूर होना पड़े | 

"तुम तो शीतल बहुत खूबसूरत हो यार " रियान के मुँह से अचानक ही ये शव्द निकल गए 

"थैंक यू रियान " शीतल ने भी उसका शुक्रिया अदा किया 

 रियान ने बेटर को बुला के खाने को ऑर्डर किया और दोनों आपस में बाते करने लगे |

शीतल और रियान एक ही मुलाकात में इतना घुल मिल गए थे की ऐसा लगने लगा था जैसे वो न जाने कबसे एक दूसरे को जानते थे , हालाँकि इस सब के पीछे दोनों और से एक स्वार्थ छिपा हुआ था , शीतल रियान के जरिये नीलम को एक्सपोज़ करना चाह रही थी, और रियान शीतल के सुन्दर और कोमल बदन के साथ अपनी ठरक मिटाना चाह रहा था |


करीब दो घंटे साथ में बिताने के बाद , रियान को नीला से मिलने के बारे में याद आया तो उसने शीतल से जाने के लिए कहा , तो शीतल ने उसका हाथ पकड़ा और पूछने लगी "कोई खास काम है क्या जाने को "

 शीतल ने जैसे ही रियान का हाथ पकड़ा तो मानो उसके शरीर में बिजली का करेंट दौड़ गया हो , उसके शव्द उसके गले में ही अटके रह गए थे | रियान को समझ नहीं आ रहा था की ये जल्दी से शीतल के आगोस में आने का इसरा है या कोई नार्मल सा इंटेंशन ||

ऐसी कंडीशन में अपने लंगोट का ढीला इंसान रियान कण्ट्रोल नहीं कर पा रहा था , उसे अब अपने अंदर एक अजीब सा कसाव महसूस हो रहा था |

उसने अपने और शीतल के हाथ के ऊपर अपना दूसरा हाथ रखते हुए सहलाने लगा और कहा "नहीं कुछ खास तो नहीं बस एक दोस्त के पास जाना है , उसे कुछ जरुरी काम है "

उसे अपने हाथ पर हाथ फेरते हुए देख कर शीतल ने अपनी नजरे झुका ली थी , लेकिन रियान नहीं रुका , दोनों कॉर्नर बाली टेबल पर थे , इसलिए रियान कार्नर बाली शीट का फायदा उठा लेना चाह रहा था , अब वो धीरे धीरे शीतल की और झुकने लगा, शीतल अपनी आंखे बंद करने लगी थी , एक समय ऐसा आया जब दोनों के एक दूसरे के करीब थे , दोनों के माथे एक दूसरे को टच कर रहे थे , जैसे ही रियान ने अपने होठ शीतल के होठो पर रखने चाहे , शीतल ने अपना हाथ बीच में रखते हुए , कहा "अभी इसके लिए मैं कन्फर्टेबल फील नहीं कर रही हूँ , प्लीज " रियान हट जाता है और अपनी नजरे चुराने लगता है ||

जानिए ब्लैक फंगस होने के लक्षण >>>

मजेदार कहानिया पढने के लिए यहां जाये >>>     

यह भी देखे : बजन कम करने के आसान और घरेलु उपाय  >>>

Post a Comment

0 Comments