Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Story in Hindi love : romantic story of love - Arrange Marriage Part - 93

Story in Hindi love : romantic story of love - Arrange Marriage Part - 93


Please support our youtube channel... 

cahnnel name - 23.1 FM

https://youtu.be/ycAf97lbmAc


यह भी पढ़े : हिंदी में शायरी और कबिता पढ़ने के लिए क्लिक करे >>>>

नीलू ने आंखे नहीं खोली और लम्बी लम्बी सांसे लेती रही , कार्तिक यू ही मंद मंद कैंप में आ रही रौशनी में नीलू के खूबसरत चेहरे को निहारता ही रहा , हर एक आती जाती साँस के साथ कार्तिक की हिम्मत बढ़ती जा रही थी , वो नीलू को जी भर के चूम लेना चाहता था, ठंड का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा था , ठण्ड की अधिकता होने के कारण नीलू के होठ कांपते जा रहे थे , कार्तिक ने इस बार हिम्मत करते हुए अपने होठ नीलू के होठो के पास ले जा कर किश करते करते रुक गया , उसे लगा नीलू सो चुकी है , उसे अब सोते हुए किश करने का मतलब है उसकी आँख खुल जाएगी , उसने अपने साथ कोम्प्रोमाईज़ करते हुए कण्ट्रोल किया और फिर से नीलू से चिपक कर लेट गया |

उत्तेजना और कौतूहल के बस में होने कारण कार्तिक को चैन नहीं आ रहा था , वो नीलू के साथ एक कल्पना के साथ सागर में गहरे गोते लगाने के लिए लालायित था | लेकिन उसकी मर्यादा उसे कदम आगे नहीं बढ़ाने दे रही थी , उसे हर बार अपने मन पर काबू कर लेने को बाध्य होना पड़ रहा था |


नीलू को भी नींद नहीं आयी थी , वो इंतजार कर रही थी की कब कार्तिक उसके ऊपर टूट पड़ने बाला है , वो कार्तिक को उसके मनमाफिक तरीके उसे वो सब कुछ करलेने देना चाहती थी लेकिन अपनी जुवान और पहल करने का हक़ केबल कार्तिक को ही देना चाहती थी , जब उसे लगा की कार्तिक फिर से लेट गया है तो उसने अपनी आंखे खोली और  कुछ देर तक कुछ सोचती रही .... और सोचते सोचते न जाने कब आंख लग गयी ..


सुबह दोनों की आंखे तब खुली जब ब्रेक फ़ास्ट के लिए उनके कैंप के बाहर खड़ा एक व्यक्ति उन्हें जोर जोर से आवाज दे रहा था |

कार्तिक और नीलू दोनों एक साथ उठे और एक दूसरे की ओर बिना देखे ही नीलू ने कार्तिक को गुड मॉर्निंग 

विश किया , बिलकुल ऐसा ही कार्तिक ने भी बिना देखे ही उसे विश किया | फिर कार्तिक ने अपने गर्म कपड़े पहनते हुए बहार खड़े आदमी से कहा "चलो भैया मैं आता हूँ "


कार्तिक और नीलू दोनों ही आपस में आंखे नहीं मिला` रहे थे , शायद रात में जो दोनों के बीच नजदीकियां थी उसको लेकर शर्म महसूस हो रही थी |


थोड़ी देर बाद कार्तिक ब्रेकफास्ट ले कर अंदर आया फिर दोनों ने साथ बैठ कर एक साथ नास्ता करने लगे और धीरे धीरे सब नार्मल सा होने लगा था |

कार्तिक ने नास्ता खाते खाते कहा "यहां तो कुछ ज्यादा ही ठण्ड है , रात बिताना मुश्किल हो गया "

नीलू ने कार्तिक की ओर देखा और बोली "हाँ बहुत ज्यादा ही ठण्ड थी , नींद भी नहीं आयी पूरी रात , शुकर है तुम साथ में बिलकुल चिपक कर लेटे थे बरना ठण्ड तो लान ही लेलेती  "

कार्तिक ने नीचे देखते हुए धीरे धीरे से बुदबुदाते हुए कहा "और तुम मेरी जान लेलेती अगर जल्दी से सुबह न होती तो "


कार्तिक की बात नीलू के चेहरे पर मुस्कराहट लाने में सफल तो रही लेकिन नीलू को कही कही निराश तो किया 

नीलू आखिर क्या चाहती थी कार्तिक से शायद उसने सही पहिचाना नहीं था |


नीलू ने कहा "क्या मतलब थोड़ा जोर से भी तो बोल सकते हो "

कार्तिक ने कहा "नहीं नहीं मैंने तो कुछ कहा ही नहीं "

नीलू ने आंखे तरेरते हुए कहा "अच्छा तो मेरे कान बज रहे है क्या "

कार्तिक ने आंखे चुराते हुए कहा "मैं तो ठण्ड के बारे में कह रहा था कुछ "

नीलू ने कहा "हाँ पता है तुम किस के बारे में कह रहे थे "


फिर कार्तिक ने थोड़ी सी हिम्मत दिखाते हुए कहा "छोडो न यार जो हुआ ही नहीं उसके बारे में क्या बात करना , तुम खाने पर ध्यान दो , ठंडा हो रहा है "


कार्तिक का नीलू जवाव नीलू को सोचने पर मजबूर कर दिया , इसका मतलब कार्तिक रात को जाग रहा था , ओह्ह , मैं तो सोच रही थी सो रहा है सोते सोते कुछ हरकत कर रहा है , इसका मतलब ये जानबूझ कर ...


नीलू बनाबटी मुस्कान चेहरे पर लाते हुए कहा  "सिर्फ सोचने से नहीं होता ,, सोचने से सिर्फ fantasy में होता है "


इतने में कार्तिक का कॉल आने लगा ,, लेकिन नेटवर्क कुछ कम था तो उसे कैंप के बाहर जाना पड़ा |

कार्तिक के जाने के बाद नीलू के मन में दो सवाल आये , किसका फ़ोन है जो बिना बताये बाहर चला गया और दूसरा तो पहले से ही सोच में थी , अगर ये रात को जाग रहा था तो कुछ किया क्यों नहीं |

even किश भी मैंने ही करने की कोशिश की थी ..... क्या पायल सही कह रही थी ? उसे कैसे पता ?

एक और शक ||


कार्तिक ने देखा तो उसे नायरा कॉल कर रही थी ... उसने कॉल रिसीव किया 

हेलो नायरा , तुमने कॉल किया था क्या ??


नायरा "हाँ कार्तिक मैंने कॉल किया था , सब ठीक है न , कर सकते हो न बात अभी "

नायरा की आवाज में दर्द सा था , कुछ घबराई हुई सी लग रही थी |

कार्तिक ने उसे पूछा "हाँ नायरा , सब ठीक है , तुम बताओ कैसी हो , और ये तुम्हारी आवाज को क्या हुआ "

नायरा हिचकते हुए बोली "नहीं नहीं मैं तो ठीक हूँ , तुम अपना ख्याल रखना "


और नायरा ने कॉल डिसकनेक्ट कर दिया .. 

कार्तिक "हेलो , हेलो नायरा ... क्या हुआ ,, ओह्ह कॉल क्यों काट दिया बिना कुछ कहे .."

मुझे कुछ गड़बड़ लग रही है , कुछ तो हुआ है जो नायरा ने कॉल किया और फिर कुछ कहे बिना ही कट कर दिया || वो हाथ में फ़ोन लिए हुए खड़ा फ़ोन की ओर देखता रहा .. लेकिन अब कॉल नहीं आया |


जब कॉल नहीं आया तो उसने अपनी ओर से कॉल लगाया ....


कार्तिक "हेलो , क्या हुआ था , बिना कुछ कहे कॉल डिसकनेक्ट कर दिया तुमने "

नायरा ने उदास और रूखी सी आवाज में कहा "कुछ नहीं कार्तिक बस लग गया था कॉल तुम्हारा गलती से "

कार्तिक ने नायरा को समझते हुए कहा "मैं इतना भी पागल नहीं हूँ , सब समझता हूँ तुम गलती नहीं करती हो , बताओ क्या हुआ "

नायरा चुप रही .. कुछ नहीं बोली 

कार्तिक ने फिर से कहा "बोलो तो सही क्या हुआ , मुझसे कोई गलती हुई , यार तुम रो क्यों रही हो "

नायरा ने अपने आंसू साफ किये फिर बोली "नहीं मैं क्यों रोऊगी"

कार्तिक "exactly मैं भी यही चाहता हूँ "

नायरा बोली "लेकिन मैं क्या चाहती हूँ , इससे किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता "

कार्तिक "यार तुम भी न , क्या कहना चाहती हो "

नायरा "कुछ नहीं यार , वो मेने तुम्हारे बारे में बुरा सपना देख लिया था इसलिए कॉल कर दिया "

कार्तिक मुस्कराते हुए बोला "अच्छा क्या सपना देख लिया "

नायरा ने कहा "कुछ नहीं छोडो , कहाँ हो ये बताओ "

"अभी तो कुल्लू में है अब दूसरी जगह जाने का प्लान है " कार्तिक ने बताया 

नायरा "रहने दो या मत बताओ ,मुझे जेलेश फील हो रहा है किसी के लिए "

अब कार्तिक ने कुछ नहीं कहा , नायरा ने भी बाय टेक केयर कह के कॉल डिसकनेक्ट करदी ..


अपने कान से फ़ोन हटते हुए जैसे ही कार्तिक कैंप की ओर मुड़ा तो उसके सामने नीलू लाल पीला चेहरा किये खड़ी घूर रही थी , अब कार्तिक उसे बली के बकरे की तरह खड़ा अपने शिकारी को देख रहा था  ||

यह भी पढ़े : हिंदी में शायरी और कबिता पढ़ने के लिए क्लिक करे >>>>


Post a Comment

0 Comments